समर्थक

14 August, 2013

"आजादी की वर्षगाँठ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे काव्य संग्रह 'धरा के रंग' से
एक गीत
"आजादी की वर्षगाँठ"


चौमासे में श्याम घटा जब आसमान पर छाती है।
आजादी के उत्सव की वो मुझको याद दिलाती है।।

देख फुहारों को उगते हैं, मेरे अन्तस में अक्षर,
इनसे ही कुछ शब्द बनाकर तुकबन्दी हो जाती है।

खुली हवा में साँस ले रहे हम जिनके बलिदानों से,
उन वीरों की गौरवगाथा, मन में जोश जगाती है।

लाठी-गोली खाकर, कारावास जिन्होंने झेला था,
वो पुख़्ता बुनियाद हमारी आजादी की थाती है।

खोल पुरानी पोथी-पत्री, भारत का इतिहास पढ़ो,
यातनाओं के मंजर पढ़कर, छाती फटती जाती है।

आओ अमर शहीदों का, हम प्रतिदिन वन्दन-नमन करें,

आजादी की वर्षगाँठ तो, एक साल में आती है।

3 comments:

  1. लाठी-गोली खाकर, कारावास जिन्होंने झेला था,
    वो पुख़्ता बुनियाद हमारी आजादी की थाती है।

    Kaash ,is baat ko har bhartiy smajhe.

    swatntrta diwas ke avasar par bahut hi achchha geet likha hai.

    ReplyDelete
  2. सुंदर कविता ..... जय हिन्द

    वीर शहीदों को नमन

    ReplyDelete
  3. अतिसुन्दर,वीर शहीदों को नमन ,स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin