समर्थक

30 March, 2020

संस्मरण "देवदूत कांस्टेबिल दीपक कुमार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

      खटीमा से 27 किमी दूर कुमाऊँ का पर्वतीय द्वार टनकपुर नाम का एक छोटा नगर है। जहाँ की एक बुजुर्ग महिला कमला देवी का गठिया-वात का इलाज अमर भारती आयुर्वेदिक अस्पताल, खटीमा में मेरे यहाँ से चल रहा था। 
     किन्तु अचानक लॉकडाउन हो गया। दवाई खत्म होने पर उसकी तकलीफ बढ़ गई। कई बार फोन आया कि डॉ.साहब आप किसी माध्यम से मेरी दवाई भिजवाने की कृपा करें। लेकिन व्यवस्था न हो सकी।
     ऐसे में खटीमा में तैनात पुलिस कांस्टेबिल दीपक कुमार उसके लिए देवदूत बनकर आया और वह अपने पास से पैसे खर्च करके उसकी एक सप्ताह की दवाई लेकर गया।
नमन है पुलिस के इस जवान 
दीपक कुमार की मानवता को।

LinkWithin