समर्थक

02 February, 2014

"बादल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरे काव्य संग्रह "धरा के रंग" से
एक गीत
कहीं-कहीं छितराये बादल,
कहीं-कहीं गहराये बादल।

काले बादल, गोरे बादल,
अम्बर में मँडराये बादल। 

उमड़-घुमड़कर, शोर मचाकर,
कहीं-कहीं बौराये बादल।
भरी दोपहरी में दिनकर को,
चादर से ढक आये बादल।

खूब खेलते आँख-मिचौली,
ठुमक-ठुमककर आये बादल।
दादुर, मोर, पपीहा को तो,
मेघ-मल्हार सुनाये बादल।

जिनके साजन हैं विदेश में,
उनको बहुत सताये बादल।

3 comments:

  1. कहीं-कहीं छितराये बादल,
    कहीं-कहीं गहराये बादल।

    काले बादल, गोरे बादल,
    अम्बर में मँडराये बादल।

    उमड़-घुमड़कर, शोर मचाकर,
    कहीं-कहीं बौराये बादल।

    भरी दोपहरी में दिनकर को,
    चादर से ढक आये बादल।

    खूब खेलते आँख-मिचौली,
    ठुमक-ठुमककर आये बादल।
    दादुर, मोर, पपीहा को तो,
    मेघ-मल्हार सुनाये बादल।

    जिनके साजन हैं विदेश में,
    उनको बहुत सताये बादल।

    बहुत सुन्दर बिम्ब की खूब सूरती एवं रूपकत्व लिए है यह गीत।

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत चित्र ओर उतेने ही खूबसूरत शब्द ... सुन्दर गीत ...

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin