समर्थक

22 June, 2010

"चर्चा बच्चों के ब्लॉगों की-3" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")





हम सबकी आँखों के तारे!
ब्लॉग सजे हैं न्यारे-न्यारे!
नन्हे मुन्नों की चर्चा में,
बॉक्स बनाए प्यारे-प्यारे!!


------------------


हितोपदेश 23 - दो बिल्लियां और बंदर दो बिल्लियां रहतीं इक साथ चाहे दिन हो चाहे रात साथ में दोनों घूमने जातीं मिलकर अपना समय बितातीं एक बार वो घर से निकलीं थी वो दोनों बहुत ही भूखी दिख गई...
------------------



बादल बादल आये बादल आये । 
काले-काले बादल आये ॥ 
काली-काली आंधी आती । 
बरसे पानी भर आते खेत ॥ 
मेढक बोलते टर्र-टर्र । 
पेड़ो पर बूंदे पड़ती झम-झम-झम ॥ 
फल गिरते टप........ 

------------------

मेरी मुस्कान है कोई जबाब.... 
(aadityaranjan, smile, cute kid, baby blogger) 
------------------



आज फादर डे है , 
एक दिन पिता लिए समर्पित . 
मुझे तो इतनी समझ नहीं है की फादर डे क्या है , 
पर इतना जरुर माना जा सकता है , 
जितना मेरे पापा अपने पापा से प्यार ...
------------------



फादर्स डे पर कुकू की तरफ से पापा के लिए 
एक गिफ्ट लव यु पापा, सबसे ज्यादा :)



------------------

आपको पता है, आज फादर्स डे है। 
वर्ल्ड फादर्स डे का आरंभ 20वीं सदी के आरंभ में हुआ। 
पहले इसका प्रभाव मात्र पाश्चात्य देशों में था, 
अब तो अपने इण्डिया में भी ... 

------------------

मैंने आज father's day पर 
अपने पापा के लिए कार्ड बनाया है .....
इसमें मैं पापा के पैंट पर iron कर रही हू .....
पापा खुश होंगे न .......!

------------------



बच्चो, रसगुल्ले का नाम सुनकर 
सभी के मुँह में पानी भर आता है। 
रसगुल्ले को मिठाइयों का राजा कहा जा सकता है। 
यह तो आप जानते ही होवोगे कि रसगुल्ला एक बंगाली ... 
------------------



** *काले मेघा आओ ना* ** * * *
गर्मी दूर भगाओ ना।* * * * * * * *
गगरी खाली गांव पियासा* * * *
नदिया से ना कोई आशा।* * * *
सूख गये सब ताल तलैया* * * *
कैसे गायें ... 
------------------
image
*माता के उपकार बहुत, 
* *वो भाषा हमें बताती है! * *
उँगली पकड़ हमारी माता, * *
चलना हमें सिखाती है!! * * * 
*दुनिया में अस्तित्व हमारा, 
* *माँ के ..

------------------
सरस पायस

पूछताछ : रमेशचंद्र शाह की एक बालकविता



चित्र को स्पष्ट रूप से देखने के लिए चित्र पर क्लिक् कीजिए!
------------------
अन्त में-
 




जेठ की तपती दुपहरी आग 
जो बरसा रही बर्फ़ की चादर लपेटे 
ठंढ भी शरमा रही । 
स्याह लावा हर सड़क पर 
बस पिघलता जा रहा 
चीख प्यासे पाखियों की 
दिल को अब दहला रही । ... 

6 comments:

  1. शास्त्री अंकल को बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बढ़िया : "सरस पायस" को शामिल करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा...आभार!

    ReplyDelete
  4. aapka bahut bahut dhanyawaad...manbhavan charcha...

    ReplyDelete
  5. कित्ती प्यारी चर्चा है...मजेदार. 'पाखी की दुनिया ' की चर्चा के लिए विशेष आभार !!

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin