समर्थक

01 January, 2011

"मंगलमय नववर्ष - HAPPY NEW YEAR-2011" (बाल चर्चा मंच-33)


Happy New Year 2011


Happy New Year

आप सभी को नववर्ष २०११ के आगमन की हार्दिक शुभकामनाएँ.....!!!!
-------------------------------

एक ब्लॉग 

 

संकलक

 

(एग्रीगेटर) 

मित्रों!
आज पूरा ब्लॉगजगत 

संकलक (एग्रीगेटर) खोज रहा है! 

मैंने भी वर्ष-2011 की पूर्व संध्या पर 

एग्रीगेटर का विकल्प खोजने का 

यह प्रयास किया है!

मुझे आशा ही नहीं अपितु विश्वास भी है कि 

आप अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. 

मुझे मेल करते जाएँगे और मैं आपके ब्लॉग 

इसमें जोड़ता चला जाऊँगा!




    ----------------------------

    साल बीतने में अब कुछ घंटे ही बचे है . 
    अपना तीसरा साल माधव और मेरे लिए काफी अहम रहा . 
    इस साल माधव का मुंडन हुआ . 
    माधव ने ठीक से बोलना शुरू किया . बहुत सारी ...
    ------------------

    चिंकू यह लो तुम्हारा पेंसिल-बॉक्स क्लास मे छुट गया था..... ..........
    'thankou मिक्की'
    ------------------


    ब्लागर भाइयो को नववर्ष की ढेर सारी शुभकामना। 
    आप सब यूंही ब्लाग के माध्यम से जुड़ें और जोड़े। 
    हर समाज कुछ न कुछ रचता रहता है पर रचना सार्थक और सकारात्मक.....
    ------------------


     ग्लोबल वार्मिंग........ बस, कार, ट्रक सभी चलाते है। 
    उससे वातावरण गन्दा करते है॥ यदि वातावरण साफ़ है रखना। 
    तो धुआँ रहित साधन प्रयोग करना॥ क्योकि हो रहा है...
    ------------------


    *मिक्की माउस कितना अच्छा।* 
    *लगता है चूहे का बच्चा।।* * 
    * *कितना हँसमुख और सलोना।* *यह लगता है एक खिलौना। *...
    बालचित्रकार-प्राञ्जल
    ------------------

    डा० अनिल सवेरा जी की एक ओर सुंदर रचना....... 
    सब से अच्छा अपना घर 
    जिस मै नही लगता हे डर, 
    इस मे रहते दादा दादी 
    जो देते पुरी आजादी....

    --------------------------

    नमस्ते, 
    आप लोगों से इस दौरान बहुत ही कम मुलाकात हो सकी। 
    इसका एक तो कारण ये रहा कि हम आने-जाने में व्यस्त रहे 
    साथ ही हमसे मिलने भी बहुत से लोग आते रहे। ...
    ------------------

    *बाल गीत : डा. नागेश पांडेय ' संजय ' 
    * छायाकार : डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक" 
    कोहरे भइया, हटो अगर, तो बाहर आऊँ। 
    विद्यालय को देर हुई, झटपट मैं जाऊँ।  ...
    ----------------
    --------------------------
    --------------


    मेरी सिस्टर तन्वी आज दो माह की हो गई. 
    मैं तो बस सोच रही हूँ कि कब वह जल्दी से बड़ी हो जाय और फिर 
    मैं उसके साथ ढेर सारी बातें करूँ, खूब खेलूं और मस्ती करूँ....
    ------------------

    अन्त में देखिए-

    आज पढ़िए बच्चों के अच्छे और बुरे बिहेविअर के बारें में 
    प्रियंका सिंह की नवभारत टाईम्स में छपी रिपोर्ट की पांचवीं कड़ी, 

    जो इस विषय के विशेषज्ञों से बातचीत क...  



    बाल-मंदिर

    No comments:

    Post a Comment

    केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

    LinkWithin