समर्थक

13 December, 2010

"प्यारा प्यारा भारत देश " (बाल चर्चा मंच-31)


 चर्चा मंच पर पोस्ट बहुत ज्यादा हो जाती है!
इसलिए प्यारे-प्यारे नन्हे-सुमनों की
चर्चाएँ अक्सर छूट जाती हैं!
-------------------
आज प्रस्तुत है-
बच्चों के ब्लॉगों की चर्चा का 31वाँ अंक!  
------------------
आज सबसे पहले चर्चा करते हुए!
माधव के मम्मी-पापा को बधाई देते हैं!
आज यानी दिसंबर को मम्मी पापा की मैरेज एनिवरसरी है .
आज से चार साल पहले १३ दिसंबर २००६ को मम्मी पापा का विवाह हुआ था.
दोनों को मेरी शुभकामनायें . ...
------------------
 बाल-दुनिया में आज पढ़िए
बालसाहित्य के भीष्मपितामह  डॉ० राष्ट्रबंधु
की यह कविता-
फूलों और फलों का देश 
मीठा स्वाद सलोना वेश 
प्यारा प्यारा भारत देश। 
पर्वत रखते हैं ऊँचाई 
रत्नाकर रखते गहराई 
नदियों में बहता है अमृत 
निर्झर ने ताकत दिखलाई... 
------------------
 chulbuli आपको दिखा रहीं हैं-
-आज तो कोई भी खरीदार दिख ही नहीं रहा है....
.क्या आपलोग खरीदेंगे.....ताजी हरी सब्जियां और फल.....
------------------
** *Flowers can be Artificial,* 
*Love is Natural..* 
*Smile can be Artificial,* 
*Lips never can..* 
*Tears can be Artificial,* 
*Sadness never can..* *...
------------------
*लड्डू सबके मन को भाते!* 
**लड्डू हैं ये प्यारे-प्यारे,* 
*नारंगी-से कितने सारे!...
------------------
 अब लविज़ा | Laviza से मिलिए!
-आपने नई फिल्म गुज़ारिश देख लिया ? 
उसका उड़ी- उड़ी गाना मुझे खास पसंद आया. 
जब भी टीवी पर उसका प्रोमो आता है, मैं भी साथ साथ डांस करती हूँ. 
उस दिन मम्मा ... 
------------------
*मां कैसे तुम्‍हें,* *एक शब्‍द मान लूं * *दुनिया हो मेरी* *पूरी तुम* 
*आंखे खुलने से लेकर* *पलकों के मुंदने तक* 
*तुम सोचती हो* *मेरे ही बारे मे...
------------------
 पाखी की दुनिया कर रहीं हैं
आपको बताया था न कि अब मैं पोर्टब्लेयर आ गई हूँ. 
इस समय यहाँ मौसम खूब सुहाना सा है, पर कई बार खूब बारिश होने लगती है. 
अब फिर से मैं स्कूल जाने लगी हूँ. 11 त...
------------------
अपने टाईट शेड्यूल से टाइम निकल कर 
पापा जब मुझे घुमाने कही ले जाते है 
तो मैं बहुत ही खुश हो जाती हूँ . 
अभी कुछ ही दिनों पहले मैं मम्मी पापा के साथ सेन डियाग... 
------------------
 बाल सजग पर पढ़िए
बचपन के रंग ....बचपन के रंग .... 
बचपन में माँ से लड़ना झगड़ना । उसके ही हाथों से रोटी फिर खाना ॥ 
उसके साथ ही चलना और घूमना । गोदी में चढ़कर उसके मचलना ॥ 
पापा से झट से पैसे ... 
------------------
अक्षयांशी -- Akshayanshi आपको सुना रही है एक कविता!
-हमें हमारे पड़ोस में रहने वाली रंगोली दीदी ने एक कविता याद करवाई थी। 
इस कविता को हम सभी को सुनाते भी हैं। 
एक दिन हमने अपने पिताजी को भी यह कविता सुनाई तो उन... 
------------------
नन्ही परी बता रहीं हैं
वार्षिकोत्सव के बारे में -
अभी मेरे स्कूल में वार्षिक उत्सव मनाया गया | 
हम बच्चो ने animal costume में एक डांस प्रस्तुत किया 
जो हमारी टीचर ने हमें सिखाया था | हमारी कुछ तस्वीरें और ...
------------------
रंग-बिरंगे फूलों के साथ रहने वाली तितलियाँ भी 
बहुत सुंदर होती हैं | तितलियाँ कई तरह की और 
कई आकार की होती हैं | 
मुझे यह समझाने के लिए कुछ समय पहले मेरी एक...
------------------
खटीमा क्षेत्र के सभी बालकों को राज्य स्तर पर 
प्रतिभाग करने के लिए बधाई! 
- २६ व २७ नवंबर २०१० को 
राजकीय बालिका इंटर कॉलेज, कोटद्वार (पौड़ी गढ़वाल) में 
संपन्न बाल विज्ञान कां...
------------------
अन्त में देखिए-  
------------------
-मेरे स्कूल में पत्तों से कई चीज़ बना सिखाया गया ... 
मैंने भी बनाया है ... आप सब खुद देख लीजिए

9 comments:

  1. सुंदर चर्चा .....चैतन्य को जगह देने के लिए आभार.....

    ReplyDelete
  2. बहुत प्यारी चर्चा ..मन को भाई.

    ________________
    'पाखी की दुनिया; में पाखी-पाखी...बटरफ्लाई !!

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा, बधाई

    ReplyDelete
  4. रंग विरंगे अच्छे पोस्टों से आज चर्चा मंच को निखार दिया है !
    बढ़िया लगा !
    साभार ,
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा नानाजी ...आभार
    अनुष्का

    ReplyDelete
  6. sundar charcha...
    mere blog par bhi kabhi aaiye
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin